Computer in Hindi | Business in Hindi: ipo kya hai
Showing posts with label ipo kya hai. Show all posts
Showing posts with label ipo kya hai. Show all posts

Saturday, July 31, 2021

ipo kya hota hai | आईपीओ में कैसे निवेश करें

July 31, 2021 0
ipo kya hota hai | आईपीओ में कैसे निवेश करें

IPO KYA HOTA HAI


शेयर बाजार में निवेश के बारे में हम सभी कुछ न कुछ जानते हैं। आज हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि आईपीओ क्या है। कोई भी निवेशक किसी कंपनी के शेयर प्राइमरी या सेकेंडरी मार्केट के जरिए खरीद सकता है।


 प्राथमिक बाजार वह जगह है जहां कोई निवेशक किसी कंपनी के शेयर खरीद सकता है जो पहली बार आईपीओ की प्रक्रिया के माध्यम से जारी किए जाते हैं। 


IPO KYA HOTA HAI? कोई भी कंपनी जिसे अपनी वृद्धि और विकास के लिए धन या पूंजी की आवश्यकता होती है, वह आईपीओ का मार्ग चुनेगी। जब आप एक निवेशक के रूप में कंपनी के शेयर खरीदते हैं, तो आप कंपनी के शेयरधारक बन जाते हैं। 


आपके द्वारा धारित शेयर की कीमत कंपनी को प्रभावित करने वाले विभिन्न कारकों के कारण बढ़ती और गिरती है। अगर आपका सपना अगले 10 या 15 साल में घर खरीदने का है तो आप लंबी अवधि के लिए किसी अच्छी कंपनी में निवेश कर सकते हैं। आप निर्धारित समय सीमा पर घर खरीदने के अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं।


आईपीओ में कैसे निवेश करें | IPO Basic In Hindi


आइए जानें आईपीओ की महत्वपूर्ण शर्तें।


प्रस्ताव दस्तावेज़ (Offer Document:)

यह दस्तावेज़ कंपनी के प्रमोटरों, वित्तीय स्थिति, प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश के उद्देश्यों आदि जैसी सभी बुनियादी जानकारी देता है।


  • Red Herring Prospectus


इस शब्द का उपयोग बुक बिल्ट इश्यू के मामले में ऑफर डॉक्यूमेंट को संदर्भित करने के लिए किया जाता है। इस दस्तावेज़ में शेयरों की कीमत और संख्या को छोड़कर सभी विवरण दिए गए हैं।


  • प्रस्ताव के पत्र (Letter of Offer)

शेयरों के राइट्स इश्यू के ऑफर डॉक्यूमेंट को लेटर ऑफ ऑफर कहा जाता है।


  • निश्चित मूल्य मुद्दा (Fixed Price Issue)

इस पद्धति में, निर्गम मूल्य जारीकर्ता द्वारा तय किया जाता है और प्रस्ताव दस्तावेज़ में इसका उल्लेख किया जाता है।


  • पुस्तक-निर्मित मुद्दा (Book-built issue:)

यह एक कुशल तरीका है जिसके द्वारा निवेशकों की मांग के आधार पर किसी इश्यू की कीमत का पता लगाया जाता है।


  • मूल्य बैंड (Price Band)

जिस मूल्य सीमा के भीतर निवेशक बोली लगा सकता है उसे मूल्य बैंड कहा जाता है। न्यूनतम मूल्य (न्यूनतम मूल्य जिस पर एक निवेशक बोली लगा सकता है) और अधिकतम मूल्य (अधिकतम मूल्य जिस पर एक निवेशक बोली लगा सकता है) के बीच का अंतर 20% से अधिक नहीं होना चाहिए।


  • कट-ऑफ मूल्य (Cut-off price)

जिस कीमत पर निवेशकों को शेयर की पेशकश की जाएगी उसे कट-ऑफ मूल्य कहा जाता है।


आईपीओ में कैसे निवेश करें ?


यह एक ऐसा अवसर है जिसके द्वारा आम निवेशकों को भी किसी कंपनी में निवेश करने का मौका मिलता है। आईपीओ शेयर क्या है? आपके जीवन के विभिन्न लक्ष्य हो सकते हैं जैसे कार खरीदना, घर, बच्चों की उच्च शिक्षा, बच्चों की शादी का खर्च आदि। इन सभी लक्ष्यों को पूरा करने के लिए, आपके पास एक उचित वित्तीय योजना होनी चाहिए। इसका सीधा सा मतलब है कि आपको अपना पैसा कुछ वित्तीय संपत्तियों में निवेश करना होगा जो आपको अधिक रिटर्न देंगे। 


केवल शीर्ष प्रदर्शन करने वाले आईपीओ, आगामी आईपीओ आदि के बारे में जानने के लिए। आरंभिक सार्वजनिक पेशकश एक प्रकार का निवेश उत्पाद है जिसका उपयोग आप दीर्घकालिक निवेश उद्देश्य के लिए कर सकते हैं। आईपीओ क्या है? यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिससे जारीकर्ता कंपनी और निवेशक दोनों लाभान्वित होते हैं। 


कंपनी को आवश्यक पूंजी तब मिलती है जब निवेशक शेयर खरीदते हैं और बदले में, निवेशक इसका उपयोग अपने जीवन के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कर सकता है। शेयरों के मामले में तरलता अधिक होती है क्योंकि जब भी आपको ब्रोकर के माध्यम से एक्सचेंज पर पैसे की जरूरत होती है तो आप इसे बेच सकते हैं। 


आशा है कि अब आप IPO की परिभाषा समझ गए होंगे। सर्वोत्तम आगामी आरंभिक सार्वजनिक पेशकश में निवेश करने के लिए अपना डीमैट खाता खोलें।